Hindi
Wednesday 3rd of June 2020
Articles
ارسال پرسش جدید

दुआ ऐ सहर

दुआ ऐ सहर
ऐ गमो अन्दोह मे मेरी पनाहगाह    या मफज़ई इन्दा कुरबती    يَا مَفْزَعِي عِنْدَ كُرْبَتِيऐ मुश्किलो मे मेरी मदद करने वाले    या ग़ौसी इन्दा शिद्दती    وَ يَا غَوْثِي عِنْدَ ...

अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अ.ह

अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अ.ह
 13 रजब को अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म हुआ, आप पैगम्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम के चचाज़ाद भाई हैं और वह इसी नुबूव्वत की छाया में पले ...

शबे आशूर के आमाल

शबे आशूर के आमाल
अल्लाह पाक व पाकीज़ा है सारी तारीफ़ उसी अल्लाह के लिए है अल्लाह के अतिरिक्त कोई माबूद (जिसकी इबादत की जाए) नहीं है अल्लाह सबसे बड़ा है और उसके अतिरिक्त किसी के पास कोई ताक़त ...

ज़ुहुर या विलादत

ज़ुहुर या विलादत
आज कल शियो के दरमियान मासूमीन अ.स. की विलादत पर लफ्ज़े ज़ुहुर का इस्तेमाल हो रहा है और हम भी इसे एक फज़ीलत समझ कर खुश हो रहे है औऱ हद तो ये है कि बाज़ लोग लफ्ज़े विलादत का ...

हज़रत ज़ैनब के शुभ जन्म दिवस के अवसर पर विशेष चर्चा।

हज़रत ज़ैनब के शुभ जन्म दिवस के अवसर पर विशेष चर्चा।
महापुरूषों के जीवन की समीक्षा करना और उनको आदर्श बनाने जैसी बातें आत्मशुद्धि और उचित प्रशिक्षण के महत्वपूर्ण कारक हैं।इतिहास में ऐसे सदाचारी पुरूषों और महिलाओं के ...

आयतुल्ला ख़ुमैनी की द्रष्टि से हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा

आयतुल्ला ख़ुमैनी की द्रष्टि से हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा
हजरत इमाम ख़ुमैनी कहते हैं.बीबी फ़ातिमा मानव जीवन और इस दुनिया के लिऐ गर्व और गौरव है। आप ऐसी लेडी हैं जो ख़ानदाने वहि के लिऐ गर्व और सम्मान का कारण हैं सूरज की तरह इस्लामी ...

अमीरुल मोमिनीन अ. स.

अमीरुल मोमिनीन अ. स.
नाम व उपाधियाँआपका नाम अली व आपके अलक़ाब अमीरुल मोमेनीन, हैदर, कर्रार, कुल्ले ईमान, सिद्दीक़,फ़ारूक़, अत्यादि हैं।माता पिताआपके पिता हज़रतअबुतालिब पुत्र हज़रत अब्दुल ...

आसमान वालों के नज़दीक इमाम जाफ़र सादिक़ (अ) की उपाधि पहले से ही सादिक़ थी।

आसमान वालों के नज़दीक इमाम जाफ़र सादिक़ (अ) की उपाधि पहले से ही सादिक़ थी।
हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ का नाम जाफ़र, आपकी कुन्नियत अबू अब्दुल्लाह, अबू इस्माईल और आपकी उपाधियां, सादिक़, साबिर व फ़ाज़िल और ताहिर हैं, अल्लामा मज़लिसी लिखते हैं कि ...

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत
पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम ने कहा कि हे अली, जिब्राईल ने मुझे तुम्हारे बारे में एक एसी सूचना दी है जो मेरे नेत्रों के लिए प्रकाश और हृदय के लिए आनंद बन ...

मानवाधिकार आयुक्त का कार्यालय खोलने पर जोर

मानवाधिकार आयुक्त का कार्यालय खोलने पर जोर
बहरैन की अलवेफ़ाक़ पार्टी के सचिव ने मांग की है कि बहरैन में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त का कार्यालय खोला जाए...... अहलेबैत समाचार एजेंसी अबना की रिपोर्ट के अनुसार ...

इमाम तकी अलैहिस्सलाम के मोजेज़ात

इमाम तकी अलैहिस्सलाम के मोजेज़ात
(1) इमाम अली रज़ा (अ.स) की शहादत के बाद मुखतलिफ शहरो से 80 ओलामा और दानिशमंद हज करने के लिये मक्का रवाना हुए। वो सफर के दौरान मदीना भी गए , ताकि इमाम मौहम्मद तक़ी (अ.स) की ज़ियारत भी ...

इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम

इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम
हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का जीवन परिचयहज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का नाम अली व आपकी मुख्य उपाधि रिज़ा है।माता पिताहज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम के पिता हज़रत इमाम ...

इमाम महदी (अ.स) से शिओं का परिचय

इमाम महदी (अ.स) से शिओं का परिचय
चूँकि हज़रत इमाम महदी (अज्जल अल्लाहु तआला फरजहु शरीफ) का जन्म बहुत ही गुप्त रूप से हुआ था, इस वजह से यह डर था कि शिया आखरी इमाम की पहचान में ग़लत फ़हमी या भटकाव का शिकार हो ...

दावत नमाज़ की

दावत नमाज़ की
देता हूँ दोस्तों तुम्हें दावत नमाज़ कीतकदीर वाले पाते हैं दौलत नमाज़ कीजिस घर के लोग करते हैं इज्ज़त नमाज़ कीउस घर में पाइ जाती है बरकत नमाज़ कीदोनों जहां में रहता है वो आन शान ...

फरिश्तो की क़िस्में

फरिश्तो की क़िस्में
1. हामेलाने अर्श - यह वह फ़रिश्ते हैं जो अर्शे इलाही को उठाए हुए हैं चुनांचे उनके मुताल्लिक़ इरशादे इलाही है - ‘‘अल्लज़ीना ............. बेहम्बे रब्बेहिम’’ (जो फ़रिश्ते अर्श ...

जनाबे फातेमा ज़हरा का धर्म युद्धों मे योगदान

जनाबे फातेमा ज़हरा का धर्म युद्धों मे योगदान
इतिहास ने हज़रत पैगम्बर के दस वर्षीय शासन के अन्तर्गत आपके 28 धर्म युद्धों तथा 35 से लेकर 90 तक की संख्या मे सरिय्यों का उल्लेख किया है। (पैगम्बर के जीवन मे सरिय्या उन युद्धों ...

मोमिन की नजात

मोमिन की नजात

पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम फ़रमाते हैः मोमिन की नजात अपनी ज़बान को क़ाबू रखने में है।

कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का बलिदान। (3)

कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का बलिदान। (3)
करबला की लडा़ई मानव इतिहास कि एक बहुत ही अजीब घटना है। यह सिर्फ एक लडा़ई ही नही बल्कि जिन्दगी के सभी पहलुओ की मार्ग दर्शक भी है। इस लडा़ई की बुनियाद तो ह० मुहम्मद मुस्त्फा़ ...

मौत के बाद बर्ज़ख़ की धरती

मौत के बाद बर्ज़ख़ की धरती
बर्ज़ख़ की धरती के बारे में पवित्र क़ुरआन मजीद में ईर्साद हैः कि जिस दिन समस्त प्रकार लोगों को उठाया जायेगा। (23) मरने के बाद बर्ज़ख़, क़ब्र की धरती है उस क़ब्र में प्रत्येक ...

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा
हमारे पाठकों ने हमसे हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) और फ़िदक के बारे बहुत से प्रश्न किए हैं जैसे कि फ़िदक का वास्तविक्ता क्या है? और क्या फ़िदक के बारे में सुन्नियों की किताबों में ...